Hot Widget

Type Here to Get Search Results !


















































Yamunanagar- Police की बहादुरी से बची कई जाने, SHO और चौंकी इंचार्ज को लगी गोली

दो भाइयों के बीच झगड़े में चली गोलियां  


यमुनानगर।। पुलिस कर्मियों की बहादुरी से बची कइयों की जान। झगड़े की सूचना पर पहुंच जान बचाने की कोशिश में एसएचओ और चौंकी इंचार्ज को लगी गोली। घटना थाना छप्पर एरिया के गांव कलापुर की है। दो भाइयों के बीच झगड़े की सूचना पर थाना छप्पर की पुलिस टीम मौके पर पहुंची थी। कि मौके पर पहुंची पुलिस के सामने ही एक भाई दूसरे भाई पर गोली चलाने लगा। पुलिस को भी बार बार धमकी दे रहा था कि वो सब पर गोलियां चला देगा। 

अपनी जान की परवाह न करते हुए उस व्यक्ति को एसएचओ छप्पर और चौंकी इंचार्ज ने रोका इसी बीच एसएचओ और एसएसआई को गोली लगी, लेकिन आरोपी को मौजूद पुलिस कर्मियों ने पकड़ कर हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। वही दोनों घायल पुलिसकर्मियों को यमुनानगर के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां उनका इलाज चल रहा है दोनों ही खतरे से बाहर है। उधर इस घटना के बाद यमुनानगर के एसपी कमलदीप गोयल अस्पताल पहुंचे और घायल कर्मियों का हाल जाना।



पुलिस की बहादुरी से बची कई जाने। थाना छप्पर थाना क्षेत्र के गांव कलापुर में दो भाईयों परविंद्र व राजेंद्र के बीच हुए झगड़े की सूचना पर पुलिस पहुंची। यहां पर परविंद्र अपने भाई हरजिंद्र पर गोली चलाने लगा। तभी थाना प्रभारी जगदीश व चौकी इंचार्ज रामकुमार उसे पकड़ने लगे। उसका हाथ पकड़ लिया और पिस्टल नीचे कर दी। इतने में आरोपी ने गोली चला दी। 

दो गोली थाना प्रभारी के घुटने व पैर पर लगी। जबकि एक गोली चौकी इंचार्ज के पैर पर लगी है। दोनों को गाबा अस्पताल में दाखिल कराया गया। इस दौरान गोली राजेन्द्र को भी लगी है। इनकी हालत खतरे से बाहर है। वहीं, एसपी कमलदीप गोयल भी हाल चाल जानने पहुंचे।

गांव कलापुर में परविंद्र व हरजिंद्र के बीच जमीन को लेकर विवाद चल रहा है। इसी रंजिश में वीरवार को दोनों भाई आमने सामने हो गए। परविंद्र ने हरजिंद्र पर पहले ईंट से हमला कर घायल कर दिया। दोनों पक्षों के लोग आमने सामने हो गए। इसका पता पुलिस को लगा, तो थाना प्रभारी जगदीश व पंचतीर्थी चौकी इंचार्ज रामकुमार गांव में पहुंचे। 

यहां पर परविंद्र के हाथ में लोडिड पिस्टल थी। जैसे ही वह अपने भाई पर चलाने लगा, तो थाना प्रभारी व चौकी इंचार्ज ने उसे पकड़ लिया। पिस्टल को नीचे कर दिया। इतने में उसने पांच राउंड चला दिए। जिसमें तीन गोलियां दोनों पुलिस अधिकारियों को लग गई। बाद में अन्य पुलिसकर्मियों को पकड़ लिया। एक तरफ जहां यमुनानगर में क्राइम ग्राफ बढ़ रहा है तो वही पुलिस भी अपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए जी जान से जुटी हुई है।

अब देखना होगा कि पुलिस कब तक अपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगा पाती है। फिलहाल ताजा घटना में पुलिस कर्मियों की बहादुरी से कहीं जाने बच गई। 












Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

 




 






 








 










 












 














GOOGLE ADD

google.com, pub-3587714222570301, DIRECT, f08c47fec0942fa0

ads